राजभाषा

राजभाषा आयोग

rajbhasha ayog/ राजभाषा आयोग

7 जून 1955 को राष्ट्रपति द्वारा 20 सदस्यो का मनोनयन करके राजभाषा आयोग का गठन किया गया । इसका गठन अनुच्छेद 344 के तहत हुआ तथा इसका अध्यक्ष बी. जी. खेर को बनाया गया । इस आयोग के द्वारा 19 सिफारिशे प्रस्तुत की गई ।
राष्ट्रपति की अधिसूचना….राजभाषा आयोग की सिफारिश पर हिन्दी के विकाश के लिए एक अधिसूचना जा री की गई थी जिसमें अति महत्तवपूर्ण आंकडे दर्शाए गए थ्ेो । तत्कालीन गृहमन्त्री गोविन्द वल्लभ पन्त की अध्यक्षता में 30 सदस्यो की एक समिति गठित की गई जिसने 8 फरवरी 1962 को आयोग की अधिक तर सिफारिशांे का अनुमोदन किया ।
राजभाषा अधिनियम 1976 नें भी महत्वपूर्ण कार्य किए तथा सम्पूर्ण भारत संघ के राज्यो को तीन वर्गो में विभक्त कर दिया ।
सम्पूर्ण राष्ट् मे प्रचलित जनमानस की भाषा जो एकता का संचार करती है ……राष्ट्भाषा।

ऽ राजकाज की भाषा – राजभाषा
ऽ हिन्दी को कौनसा दर्जा प्राप्त है- राजभाषा, राष्ट्भाषा
ऽ राष्ट्भाषा शब्द है- व्यावहारिक
ऽ राजभाषा शब्द है- सवैंधानिक
ऽ हिन्दी को राजभाषा घोषित किया गया ……14 सितम्बर 1949 को
ऽ संविधान की 8वी अनूसूची मे सम्मिलित भाषाओ की सख्या- 22
ऽ हिन्दी के विकास का उल्लेख किस अनुच्छेद है- 351
ऽ हिन्दी का कौन सा रूप वर्तमान मे प्रचलित है – खडी बोली
ऽ राजभापा सम्बन्धि उल्लेख किस अनुच्छेद है- 343 से 351
ऽ 8वी अनुसूची मे कौनसी हिन्दी बोली को शामिल किया गया ….मैथिली को
ऽ देवनागरी लिपि का अपर नाम है- हिन्दी लिपि तथा लोक नागरी लिपि
ऽ हिन्दी भाषा का विकास माना जाता है- 1000 ई. के लगभग
ऽ हिन्दी भाषी लोगो की संख्या – लगभग 60 करोड़
ऽ ब्रजभाषा का साहित्य रहा है- सर्वाधिक लोकप्रिय तथा दीर्घकालीन
ऽ हिन्दी की लिपि देवनागरी को किस अनुच्छेद के तहत स्वीकार किया है- 343

कृष्ण काव्य की भाषा रही है- ब्रजभाषा
ऽ अंगे्रजी का प्रयोग कब तक जारी रखने की छूट थी…… 25 जनवरी 19’64
ऽ राजभाषा अधिनियम का संशोधन कब हुआ- 1967
ऽ राजभाषा अधिनियम कब पारित हुआ- 1963मे
ऽ खड़ी बोली का अपर नाम है – कौरवी
ऽ मानव हिन्दी का विकास किस बोली से हुआ है – ब्रज भाषा से
ऽ भारतीय भाषाओ की अधिकतर लिपियो का विकास हुआ है ब्राहा्री लिपि से
ऽ हरियाणवी बोली का साहित्यिक नाम है – बाॅगरू
ऽ हिन्दी की उत्पति मानी जाती है- शौरसेनी अपभ्रंश से
ऽ ब्रजभाषा किस रूप मे अधिक प्रचलित है – काव्य भाषा से
ऽ ब्राह्री लिपि का प्राचीन नमूना मिलता है- 5वी शदी का
ऽ देवनागरी मे कुल टाईप है- 403
ऽ हिन्दी किस भाषा परिवार की है – भारोपीय परिवार
ऽ संविधान के ंभाग.17 एवं 8वीं अनुसूची में प्रारम्भ में 14 भाषाए थी ….असमिया बंगला गुजराती हिन्दी कन्नड कश्मीरी मलयालम मराठी उडीया पंजाबी संस्कृत तमिल तेलुगु उर्दु ।
ऽ अधिनियम 1967 द्वारा 21वें संशोधन द्वारा 15वीं भाषा के रूप में सिन्धि को जोडा गया ।
ऽ 71वें संशोधन के तहत मणिपुरी नेपााली तथा कांेकणी तीन भाषाओ को शामिल कर कुल 18 भाषाए हो गई ।
ऽ 2005 के संशोधन में मैथिली बोडो डोगरी तथा संथाली भाषा को शामिल किया गया अब कुल भाषाए 22 हो गई है ।

DeekshaInstitute

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

Open chat
1
Deeksha Institute
Hi, How Can I Help You ?